This Blog Website Only Sharing Knowledge About Technology And Tips, Android, Smartphone, Education, Blogging, And Many More

Breaking

Friday, August 30, 2019

SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक बढ़ाये ? What is SEO


Hello friends, in this post today, I am going to tell you how to do SEO of your blog website so that traffic will flow on your blog website. If you want to learn better then you can understand better and bring traffic to your forces website, then let's start with us.


A beginner who is blogging new, he will definitely want to know how to do SEO or how to make his blog SEO friendly. I see this thing every day that these people are running after this thing.

One thing I noticed is that whenever we need to know something about something or need information, then we use Google to know about it. While searching, we get millions of results, but only the best of them find the first place of search engine. Have you thought about how this happens?

Now the question arises that how does Google or any other search engine know that there is a proper answer in this content so that it should be put in the first place. This is where the concept of SEO comes. This is the only SEO (Search Engine Optimization) that makes your site's pages rank in Google.

Now if this is the case then how to do it to SEO? This means how SEO is done so that we can get our blog articles ranked in the first page of Google.



If you have any questions related to what SEO is and how to do SEO, then this article today is going to be full of information for you. So stay with us till the end and get complete information about SEO. Then let's start without delay.

What is SEO

The full form of SEO is Search Engine Optimization. This is a process that you can use to improve the rank of your blog's articles in the search engine.

Google displays links in its search results that they consider are of good content and have more authority than others.


Authority means how many more pages are linked to that top page link. The more pages related to it, the more the authority of that page will also be.

The main job of SEO is to increase the visibility of any brand in organic search results. This makes the brand easily get a good exposure, along with its articles rank high in SERPs. Which brings more visitors to them, which increases the chances of more conversions.

How does Search Engine find out which page to rank?

Search engines have only one purpose. Their aim is to give users the best answer to their question.

Whenever you use them, their algorithms select the same pages that are more relevant to your question. And then they rank it, later they are displayed in the top pages.


To choose the right information for users. Search engines mainly analyze two things more:


These are two things

The first is what is the relevance between Search Query and the content of the page.

The second is how much is the authority of the page.

For Relevancy, the search engine accesses them by other factors such as topics or keywords.

The authority is measured according to the popularity of the website. Google predicts that the more a page or resource will be on the internet, then the more good content will be in it for the readers as well.

At the same time, to analyze all these things, these search engines use complex equations, which are called search algorithms.

Search engines always want that their algorithms keep that secret. But over time SEOs have learned about some such ranking factors so that you can rank a page in the search engine.

These tips are also called SEO strategies. You can rank your article by using it.


How to do seo

If you want to learn how to do SEO then before that you have to know about different types of SEO. You may be able to do them correctly by going somewhere.

What are the types of SEO?

वैसे SEO के बहुत से प्रकार हैं, लेकिन उनमें से भी मुख्य रूप से तीन प्रकार को ज्यादा महत्व दिया जाता है.


  1. On Page SEO
  2. Off Page SEO
  3. Technical SEO
On-page optimization:


In this type of optimization, more attention is paid to the page. This optimization is completely under our control. Under this comes some things such as A) High-quality, keyword-rich content preparation. B) Also optimizing HTML, which includes title tags, meta descriptions, and subheads etc.

Off-page optimization:

This type of optimization is done outside the page. Under this comes some things like back-links, page ranks, bounce rates etc

Technical SEO:

These are said to be those factors which affect the technical aspects of the website. Such as page load speed, navigable sitemap, AMP, mobile screen dispaly etc. It is very important to optimize them properly because they also affect your page rankings.

On Page SEO कैसे करे
On-page factors उन factors को कहा जाता है जो की आपके website के elements से जुड़े हुए होते हैं. On-page factors के अंतर्गत technical set-up – आपके code की quality – textual और visual content, साथ ही आपके site की user-friendliness भी शामिल हैं.

हमें ये समझना चाहिए की on-page techniques वो होते हैं जिन्हें की website में implement किया जाता है website की performance और visibility को बढ़ाने के लिए.

चलिए अब कुछ ऐसे ही on-page techniques के विषय में जानते हैं : –

1. Meta Title: ये आपकी website को describe करता है primary keywords की मदद से और ये 55–60 characters के बीच ही होने चाहिए, क्यूंकि इससे ज्यादा हुए तब ये Google Search में hide हो सकते हैं.

2. Meta Description: ये website को define करने में मदद करती है. Website के प्रत्येक page की एक unique meta descriptions होनी चाहिए. जो की sitelinks की मदद करता है उन्हें automatically SERPs में show करने के लिए.

3. Image Alt Tags: प्रत्येक website में images तो होते ही हैं लेकिन google इन्हें समझ नहीं पाता है इसलिए image के साथ हमें एक alternative text भी प्रदान करना चाहिए जिससे की search engine भी इन्हें आसानी से समझ सके.

4. Header Tags: ये बहुत ही जरुरी होते हैं, साथ में पुरे page को सही ढंग से categorize करने के लिए इनका बड़ा योगदान होता है. H1, H2 इत्यादि.

5. Sitemap: Sitemap का इस्तमाल website pages में crawl कराने के लिए होता है जिससे की google spider आसानी से आपके pages को crawl कर उन्हें index कर सकें. बहुत से अलग अलग sitemaps होते हैं जैसे की sitemap.xml, sitemap.html, ror.xml, news sitemap, videos sitemap, image sitemap, urllist.txt इत्यादि.

6. Robots.txt: ये बहुत ही जरुरी होता है आपके website को Google में index कराने के लिए. जिन websites में robot.txt होती है वो जल्द ही index हो जाते हैं.

7. Internal Linking: Interlinking बहुत ही जरुरी होतो है website में आसानी से navigate करने के लिए pages के बीच.

8. Anchor text: आपकी anchor text और url दोनों एक दुसरे के साथ match होने चाहिए, इससे rank करने में आसानी होती है.

9. Url Structure: आपके website की url structure ठीक होनी चाहिए, साथ में ये seo-friendly भी होनी चाहिए जिससे की इन्हें easily rank कराया जा सके. साथ में प्रत्येक url में एक targeted keyword होनी चाहिए, इसका मतलब की आपकी आपके url के साथ match करनी चाहिए.

10. Mobile-friendly: कोशिश करें अपने website को mobile-friendly बनाने के लिए क्यूंकि आजकल प्राय लोग mobile का इस्तमाल करते हैं internet इस्तमाल करने के लिए.

Off Page SEO कैसे करे

वहीँ दूसरी ओर आती है off-page factors, जैसे की दुसरे websites से links, social media की attention और दुसरे marketing activities जो की आपके website से अलग हो. इसमें आप quality backlinks के उपाय ज्यादा देना होता है, जिससे की आप अपने website के authority को बढ़ा सकें.
एक बात आपको यहाँ समझना होगा की off-page का मतलब केवल link building नहीं होता है बल्कि इसके साथ ये fresh content पर भी जोर देता है, जितना ज्यादा और बढिया content आप अपने viewers को प्रदान करेंगे उतनी ही ज्यादा आपके website को Google भी पसंद करेंगा..

Content:
यदि आपके website में ज्यादा fresh content होंगे तब ये Google को ज्यादा allow करगे हमेशा आपके website को crawl करने के लिए fresh content के लिए. साथ में आपके content meaningful भी होने चाहिए जिससे की ये आपके target audience को सही value प्रदान कर सकें.

Keywords:
सही keywords का चयन बहुत ही जरुरी होता है SERPs में rank करने के लिए. इसके आपको इन keywords को content के साथ optimize करना चाहिए जिससे की keyword stuffing का खतरा न हो और आपके articles सभी rank हो जाएँ.

Long-tail:
जब बात keywords की आती है तब हम long tail keywords को कैसे भूल सकते हैं. चूँकि short keyword में rank करा पाना इतना आसान नहीं होता है इसलिए इसके जगह में आप long tail keywords का इस्तमाल कर सकते हैं, जिससे इन्हें rank कराने में आसानी हो.

LSI:
LSI keywords वो होते हैं जो की main keywords से बहुत ही ज्यादा similar होते हैं. इस्लिएय अगर आप इन LSI keywords का इस्तमाल करेंगे तब viewers आसानी से आपके content तक पहुँच सकते हैं जब वो कोई particular keyword को search कर रहे हों तब.

Brokenlinks:
इन links को यथा संभव निकाल फेकना चाहिए. अन्यथा ये एक ख़राब impression प्रदान करता है.

Guest Blogging:
यह एक बहुत ही बढ़िया तरीका है do-follow backlinks बनाने का. इससे दोनों ही ब्लोग्गेर्स को फयेदा प्राप्त होता है.

Infographics:
इससे आप अपने viewers को अपने content visually show कर सकते हैं जिससे उन्हें ज्यादा समझ में आता है. साथ में वो इन्हें share भी कर सकते हैं.

Conclusion
तो मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख SEO कैसे करे जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को SEO के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है.

इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं.

No comments:

Post a Comment